Breaking News
Home / ताजा खबरें / मासूम बच्चो को छोड़ प्रेमी संग फरार माँ ,बच्चो को साथ ले सडको पर रिक्शा चलाने निकला पिता

मासूम बच्चो को छोड़ प्रेमी संग फरार माँ ,बच्चो को साथ ले सडको पर रिक्शा चलाने निकला पिता

दोस्तो मां के बिना बच्चो के जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती मां और बच्चे दोनो ही एक दूसरे के बिना नही रह सकते । बिन मां के बच्चो को कोई नही पूछता कहते है पिता न हो तो मां किसी भी तरह बच्चो को पाल लेती बच्चो के लिए माता पिता दोनो बन जाती ।लेकिन पिता के लिए ऐसा कर पाना कठिन होता है । लेकिन आज हम आपको एक ऐसे मामले के बारे में बताने वाले है जिसे जान कर आपकी सोच तो बदल जायेगी लेकिन आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि एक मां ऐसे कैसे कर सकती है ।

दो वक्त की रोटी के लिए पूरे दिन बच्चे को गोद में लेकर रिक्शा चलाता पिता, पत्नी हुई प्रेमी के साथ फरार

मध्य प्रदेश के जबलपुर में इन दिनों इसका उल्टा नजारा देखने को मिल रहा है। अपने दो मासूम बच्चों को छोड़कर मां प्रेमी के साथ भाग गई, लेकिन पिता ने उनका साथ नहीं छोड़ा। अपनी गोद में एक साल के मासूम बेटे को थामकर पिता रिक्शा चलाकर परिवार का भरण-पोषण कर रहा है।दरअसल जबलपुर के रिक्शा चालक राजेश रोज शहर की सड़कों पर बच्चे को गोद में लेकर रिक्शा चलाते नजर आ जाएंगे। कभी कंधे पर बैठाकर रिक्शा खींचते हैं तो बच्चे को सवारियां नहीं मिलने पर रिक्शा में ही सुला देते हैं। उनका कहना है कि गरीबी इतनी है कि एक दिन भी रिक्शा न चलाएं तो पेट भरना मुश्किल हो जाए।

पत्नी किसी दूसरे युवक के साथ फरार

राजेश 10 साल पहले अपने परिवार के साथ बिहार से जबलपुर आए थे। राजेश की पत्नी किसी युवक के साथ भाग गई जिसके बाद राजेश अपने बच्चों के लिए माता और पिता दोनों की जिम्मेदारी निभा रहे हैं। राजेश के दो बच्चे हैं एक लड़की और एक लड़का। वह 5 साल की अपनी बेटी को बस स्टॉप पर छोड़ते हैं और छोटे बच्चे के साथ दिन भर काम करते हैं ताकि वह दो वक्त की रोटी कमाकर बच्चों का पालन पोषण कर सकें।

बच्चे को गोद में लिए रिक्शा चलाते हुए वीडियो वायरल

वीडियो को अनुराग द्वारी ने अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर किया है। इसे अब तक 34 हजार से ज्यादा लोग देख चुके हैं और 2 हजार से ज्यादा लोगों ने वीडियो को लाइक किया है। अनुराग ने कैप्शन में लिखा, देश में गरीब कल्याण के तमाम दावों को झुठलाती तस्वीर जबलपुर से, राजेश 5 साल की बिटिया को बस स्टॉप पर छोड़ते हैं और दूध पीते बच्चे को हाथ में लेकर साइकिल रिक्शा चलाते हैं जिससे रोटी का जुगाड कर सकें।

About Megha