खुद जख्मी थे नईम शेख इसके बावजूद भी बचाई पुल टूटने से नदी में गिरे 60 लोगों की जान

  1. Home
  2. ताजा खबरें

खुद जख्मी थे नईम शेख इसके बावजूद भी बचाई पुल टूटने से नदी में गिरे 60 लोगों की जान

morbi

हा दसे के दौरान पुल पर 400-500 लोग मौजूद थे 


नईम शेख ने आगे बताया कि ये घटना उनके जीवन की सबसे दर्दनाक घटना थी. इससे पहले उन्होंने इतना खौफनाक हादसा कभी नहीं देखा था. नईम के मुताबिक उन्होंने बहुत कोशिश की, लेकिन इसके बावजूद उनकी आंखों के सामने कई बच्चों की मौत हो गई. वे बच्चे जिनकी मां नदी के किनारे उनका इंतजार कर रही थीं.

दोस्तो हर इंसान जीवन में सुख, खुशियां और शांति ही चाहता है । दुःख और हा दसों के बारे में तो कोई कल्पना भी नहीं करता ।लेकिन जब जीवन में कभी कोई अचानक से बड़ा हा दसा हो जाए तो ऐसे वक्त में घबराहट में समझ नही आता की क्या करे हाथ पांव फूलने लगते है ।लेकिन कुछ रब के बंदे होते है जो भगवान के भेजे हुए फरिश्ते होते है जो ऐसे समय में धैर्य और समझदारी से काम लेके कितनी ही जिंदगिया बचा लेते है ।आज हम आपको ऐसे ही मामले के बारे में बताने वाले है जिसमे एक शख्स ने खुद के जख्मी होने की परवाह किए बिना 60 लोगो की जान बचाई ।सभी इस हीरो के इस काम की सराहना कर रहे है ।क्या है पूरा मामला जानने के लिए खबर को अंत तक जरूर पढ़े।

brij

इस हादसे में 134 लोग अपनी जान गंवा बैठे. मृतकों में 40 से ज्यादा बच्चे थे. हादसे के बाद मोरबी में मातम पसरा है. इस सबके बीच बहादुरी और इंसानियत की मिसालों की भी चर्चा है. हादसे के वक्त पुल पर 400-500 लोग मौजूद थे. सभी किसी ना किसी तरह के पीड़ित हैं. लेकिन इन पीड़ितों में कुछ लोगों ऐसे भी हैं जिन्होंने कई लोगों की जिंदगी बचा ली. इनमें से एक हैं नईम शेख, जिन्होंने दूसरों की जान बचाने लिए अपनी जान खतरे में डाल दी. पैर चोटिल हो गया. फिर भी हिम्मत नहीं हारे और 50 से 60 लोगों को मौत के मुंह से बाहर निकाल लाए.घटना के दौरान नईम शेख खुद भी पुल पर मौजूद थे और हादसे का शिकार हुए थे. लेकिन उन्हें तैरना आता था, इसलिए नदी से बाहर निकल पाए. और फिर लोगों को बचाना शुरू कर दिया. इस समय नईम मोरबी के सिविल हॉस्पिटल में भर्ती हैं. अस्पताल में ही उन्होंने न्यूज एजेंसी एएनआई को हादसे के दौरान का पूरा वाकया सुनाया.

पुल

नईम शेख ने बताया,

पुल अचानक ही टूट गया और सब पानी में गिर गए. हादसे ने दिल को झकझोर कर रख दिया था. सब घबरा गए. हाहाकार मच गया. हादसे के वक्त मैं अपने 5 दोस्तों के साथ पुल पर ही मौजूद था. इस घटना में 4 दोस्त बच गए लेकिन एक दोस्त की मौत हो गई. मुझे तैरना आता है. मैंने अपने दोस्तों के साथ मिलकर करीब 50-60 लोगों को नदी से बाहर निकाला. जब मैं लोगों को सुरक्षित स्थान पर ला रहा था, उसी दौरान मुझे चोट लग गई. इसके बावजूद हमने कोशिश जारी रखी.'

नईम शेख ने आगे बताया कि ये घटना उनके जीवन की सबसे दर्दनाक घटना थी. इससे पहले उन्होंने इतना खौफनाक हादसा कभी नहीं देखा था. नईम के मुताबिक उन्होंने बहुत कोशिश की, लेकिन इसके बावजूद उनकी आंखों के सामने कई बच्चों की मौत हो गई. वे बच्चे जिनकी मां नदी के किनारे उनका इंतजार कर रही थीं.