Breaking News
Home / ज़रा हटके / किन्नर बबिता का पूरा हुआ 40 साल पुराना सपना, 50 लाख के बजट से बनवाया शिव मन्दिर

किन्नर बबिता का पूरा हुआ 40 साल पुराना सपना, 50 लाख के बजट से बनवाया शिव मन्दिर

दोस्तो हमारे देश में लोगो की भगवान के प्रति बहुत आस्था है । देश देवी देवताओं के बहुत से ऐसे मंदिर है जिनका निर्माण प्राचीन काल में कराया गया था और जिनकी बहुत मान्यता है उन मंदिरों के दर्शन करने लोग दूर दूर से आते है ।आज भी हमारे आसपास ऐसे लोग मौजूद है जो मंदिर निर्माण जैसे कार्य कर के अपने जीवन को सफल बनाते है ।आज हम आपको ऐसे ही एक मामले के बारे में बताने वाले है जिसमे एक किन्नर ने अपनी जीवन भर की कमाई से एक मंदिर का निर्माण कराया है । ताकि भगवान का आशीर्वाद और कृपा दृष्टि सब पर बनी रहे ।इस मंदिर का निर्माण कहां कराया गया है जानने के लिए खबर को अंत तक जरूर पढ़े।

भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर विराजेगे महादेव ,बरसों का सपना हुआ पूरा तो छलकी किन्नर बबिता की आँखे

50 लाख के बजट से किन्नर बबिता ने बनवाया शिव मंदिर, 40 साल पुराना सपना हुआ पूरा

कई दफा कुछ लोग ऐसा काम कर जाते हैं कि वे दूसरों के लिये मिसाल बन जाते हैं. ऐसा ही एक कार्य भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर स्थित बाड़मेर जिले में हुआ है. किन्नर समुदाय की गादीपति बबीता बहन ने 50 लाख रुपये की लागत से शिव मंदिर का निर्माण करवाया है. मंदिर में भगवान शिव, पार्वती, गणेश और नंदी की भव्य मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा का आयोजन किया गया. रविवार को वैदिक रितिरिवाज और मंत्रोचार के साथ मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा का समारोह आयोजित किया गया तो उसमें जनसैलाब उमड़ पड़ा.

बाड़मेर में रविवार का दिन

एक अनूठे आयोजन के कारण आम से खास बन गया. बाड़मेर के किन्नर समुदाय की गादीपति बबीता बहन ने जिला मुख्यालय पर 50 लाख रुपये की लागत से शिव मंदिर का निर्माण करवाया है. अभी जहां मंदिर बना है वहां बरसों पहले केवल बबूल की झाड़ियों का जंगल हुआ करता था. बबीता बहन ने बाड़मेर आने पर यह संकल्प लिया था कि जब कभी भी उनके पास पैसा होगा तो वह मंदिर जरूर बनाएगी.बबीता बहन ने अपनी गुरु तारा बाई के समाज सेवा के नक्शे कदम पर चलते हुए लोगों के साथ ना केवल अपना स्नेह बनाए रखा बल्कि अपने सपने को भी साकार कर दिखाया. उनके पड़ोसी बताते हैं कि बबीता बहन में अपनापन बेमिसाल है. वे बीते चालीस साल से सभी से स्नेह बनाये हुये हैं.

राम मंदिर निर्माण के लिए

भी 5 लाख की राशि भेंट कर चुकी हैं, होली-दीपावली हो या फिर किसी के घर में नए सदस्य का आगमन. बबीता बहन ने गाने बजाने और दुआए देकर पाई-पाई जोड़ी और इस मंदिर का निर्माण करवाया।. ऐसा नही है की बबिता बहन ने मंदिर और धर्म कर्म की तरफ पहला कदम बढ़ाया हो. बबीता बहन इससे पहले राम मंदिर निर्माण के लिए भी पांच लाख की सहयोग राशि भेंट कर चुकी हैं.

सपना साकार हुआ तो आंखों में

आये आंसू, माता हिंगलाज शक्ति पीठ के लिए पांच लाख के गहनों समेत माता रानी भटियानी और मजीसा के दो मंदिरों में भी गहने भेंट कर चुकी हैं. कोरोना के विकट हालात में भी बबिता बहन ने लोगों की खूब मदद की थी. अब जब चालीस साल पुराना सपना रविवार को साकार हुआ तो बबीता बहन की आंखों में खुशी के आंसू आ गये.बबीता बहन ने सभी धारणाओं को तोड़ दिया, देशभर में किन्नर समुदाय के प्रति लोगों की धारणा और नजरिया आमतौर पर बहुत ज्यादा अच्छा नहीं रहता है. लेकिन बबीता बहन ने इन सभी धारणाओं को तोड़ दिया है. बबीता बहन द्वारा धर्म कर्म के लिए बढ़ाया गया यह कदम ना केवल नजीर बन गया है बल्कि लाखों लोगों के लिए यह किसी प्रेरणा से कम नहीं है.

About Megha