Breaking News
Home / ताजा खबरें / जिंदगी की जंग हार गई गीता फोगाट की बहन,दुप्पटे के फंदे से खत्म किया जीवन

जिंदगी की जंग हार गई गीता फोगाट की बहन,दुप्पटे के फंदे से खत्म किया जीवन

दोस्तो बॉलीवुड में बहुत सी ऐसी फिल्मे है जो रियल लाइफ पर आधारित है ।इन फिल्मों में किसी के संघर्ष ,मेहनत ,मुश्किलों के बारे बताया गया है कि किसी इंसान के जीवन में क्या क्या कठिनाईया मुसीबाते आती है और वो इन सबका कैसे डट कर सामना करके आगे बढ़ता है और हालातो से हार न मानकर अपनी मंजिल तक पहुंचता है ।उन्ही फिल्मों में से एक फिल्म दंगल भी है जो फोगाट सिस्टर्स के जीवन पर आधारित है ।इस फिल्म में कुश्ती चैंपियन गीता और बबीता फोगाट के संघर्ष और मेहनत को दिखाया गया है । बड़ी जीत हासिल करने के लिए एक चैंपियन को कई बार हार का मुंह देखना पड़ता है ।लेकिन हर कोई इतना स्ट्रॉन्ग नही होता के किसी भी हालात में अपने आपको संभाल सके कुछ लोग दिल के बहुत कमजोर होते है जो हर छोटी बात को दिल पर लगा लेते है और दुखी मन से कोई न कोई गलत कदम उठा लेते है जिसकी सजा पूरे परिवार को मिलती है ।

आपको बता दें कि गीता और बबिता की ममेरी बहन रितिका ने भी एक ऐसा ही कदम उठा चुकी है जिसने उन्हें हमेशा के लिए दुनिया से दूर कर दिया है. आपको बता दें कि रितिका भी अपनी बहनों गीता और बबिता की तरह कुश्ती की खिलाड़ी थी, गौरतलब है कि उनका भी सपना था कि वो भी अपनी बहनों की तरह परिवार और समाज का नाम रोशन करें और देश के लिए मैडल जीत कर लाए.

दरअसल इसके लिए वो काफी मेहनत भी कर रही थी, हालाँकि करियर की शुरुआती कुश्ती यानी स्टेट लेवल सब जूनियर कॉम्पिटिशन में हार मिलने के बाद वो बुरी तरीके से निराश हो गई थी. वहीं मीडिया से प्राप्त जानकारी के मुताबिक यह टूर्नामेंट 12 से 14 मार्च के दरमियान भागलपुर में संपन्न हुआ था.दरअसल इस कुश्ती कॉम्पिटिशन में रितिका फाइनल तक भी आ चुकी थी. मगर फाइनल मैच में वो सिर्फ एक नंबर से बाहर हो गई थी. वहीं इस हार ने रितिका को बुरी तरह से तोड़ कर रख दिया था और अंत में उन्होंने खुद को खत्म करने का फैसला कर लिया था.

हालाँकि मीडिया से प्राप्त जानकारी के मुताबिक अर्जुन अवॉर्ड विजेता महावीर फोगाट भी उस प्रतियोगिता में गए हुए थे. आपको बता दें कि रितिका ने पंखे में अपना दुपट्टा डाल कर अपने जीवन को पूरी तरह खत्म कर दिया. हालाँकि फिलहाल पुलिस इस पूरे मामले की जांच करने में लगी हुई है.दरअसल यह खबर पढ़ रहे हर व्यक्ति से हम बस इतना ही कहना चाहते है कि ज़िन्दगी बहुत खूबसूरत होती है. और एक हार आपका पूरा जीवन नहीं बन सकती है. हालाँकि वहीं खबर पढ़ रहे लोगों से हम बस इतना ही कहना चाह रहे है अपने बच्चों को समझे, उनसे बातें करते रहे.किसी और के जैसे उन्हें बनाने से बेहतर है, उन्हें खुद को खोजने मे मदद करें. और इस खोज में आप उनके साथी बन जाए, आपको अपने बच्चों के साथ एक दोस्त जैसे व्यवहार करना चाहिए, उन्हें सही रास्ता दिखाना चाहिए.

About Megha