Breaking News
Home / राजनीती / IPC राकेश अस्थाना के पुलिस कमिश्नर बनने पर उठे सवाल, अरविन्द केजरीवाल ने कही ये बात

IPC राकेश अस्थाना के पुलिस कमिश्नर बनने पर उठे सवाल, अरविन्द केजरीवाल ने कही ये बात

बीते मंगलवार को राकेश अस्थाना को दिल्ली पु’ लिस कमिश्नर का पद हासिल हुआ ! तभी से सोशल मीडिया पर राकेश चर्चा का विषय बन गए है ! हर तरफ से उन्हें मुबारक बाद मिल रही है वहीँ गृह मंत्री अमित शाह ने उन्हें नहीं ज़िम्मेदारी सौप दी है लेकिन दूसरी तरह कई लोग इस पर एतराज़ जता रहे है और उन पर सवाल खड़े कर रहे है !

इसी बीच अब दिल्ली की राजनीति में विराजमान आम आदमी पार्टी (AAP) के कुछ विधायक इस नियुक्ति से खासा ना राज दिख रहे हैं। साथ ही कुछ लोग राकेश अस्थाना को पद से हटाने की मांग भी कर रहे हैं। इसी को लेकर आज दिल्ली विधानसभा के मानसून सत्र के पहले ही दिन में पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना को लेकर एक प्रस्ताव पारित किया गया है।

विधानसभा में अरविंद केजरीवाल सभा को करेंगे संबोधित

दरअसल आज यानी गुरुवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) राकेश अस्थाना के मुद्दे पर विधानसभा को संबोधित करने वाले थे। आपको बता दें कि इस प्रस्ताव को सदन में पेश करने वाले नेता आम आदमी पार्टी के विधायक संजीव झा हैं। राकेश अस्थाना को लेकर आम आदमी पार्टी के विधायक संजीव झा ने कहा कि राकेश अस्थाना की नियुक्ति संवैधानिक नियमों के अनुसार नहीं हुई है।

राकेश अस्थाना को किसी खास वजह से दिल्ली भेजा गया है– संजीव झा

उन्होंने आगे बढ़ते हुए कहा कि इस नियुक्ति के समय सुप्रीम कोर्ट (Supream Court) का भी खुले रूप से अनदेखी की गयी है। संजीव झा (Sanjeev Jha) केंद्र को आड़े हाथों लेते हुए कहते हैं कि दिल्ली में राकेश अस्थाना (Rakesh Ashthana) को कोई बहुत ही महत्वपूर्ण काम करवाने के लिए नियुक्त किया गया है। केंद्रीय मंत्री अमित शाह (Amit Shah) किसी के ऊपर यूं ही मेहरबान नहीं होते। उन्होंने कहा कि राकेश अस्थाना को किसी स्पेशल काम के लिए दिल्ली भेजा गया है।

गुजरात कैडर के अधिकारी को दिल्ली पुलिस कमिश्नर क्यों बनाया गया– अरविंद केजरीवाल

विधानसभा में सदन को संबोधित करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) सवाल करते हैं कि आखिर एक गुजरात कैडर के अधिकारी को दिल्ली पुलिस कमिश्नर का पद क्यों दिया गया है? केंद्र सरकार दिल्ली को काम करने देना नहीं चाहती। जो भी केंद्र सरकार की बातों को नहीं मानता है उन्हें केंद्र सरकार द बाने की कोशिश करती है। कोई दिल्ली से बाहर के कैडर का अधिकारी दिल्ली की सम स्या को कैसे हल कर सकता है हम इस पद पर नियुक्ति से बिल्कुल भी सहमत नहीं है।

Check Also

इस बार मुहर्रम पर नहीं निकलेगा ताजिया और जुलूस

हमारे देश में कई ऐसे त्योहार है जो हर साल बड़े धूम धाम से मनाये …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *